मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देवीपाटन मण्डल के विकास कार्यों की विस्तृत समीक्षा की

लखनऊ,

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने देवीपाटन मण्डल में 03 आकांक्षात्मक जनपदों-बलरामपुर, श्रावस्ती एवं बहराइच में नीति आयोग के मानकों के अनुसार विकास कार्यों को तेजी से बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इन जनपदों में अच्छी प्रगति हुई है, किन्तु और कार्य किए जाने की जरूरत है। विकास कार्यों में एक निरन्तरता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी जनपदों में कुछ न कुछ नया कार्य किए जाने का प्रयास राज्य सरकार द्वारा किया गया है। जिन विकास योजनाओं की धनराशि शासन स्तर पर लम्बित है, उन्हें शीघ्र अवमुक्त करते हुए कार्यों को तेजी से पूर्ण कराया जाए। इससे आकांक्षात्मक जनपदों का तेजी से विकास होगा।


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देवीपाटन मण्डल के विकास कार्यों की विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने मण्डल के जनप्रतिनिधियों के साथ संवाद किया और मण्डल के विभिन्न जनपदों में निर्माणाधीन विकास परियोजनाओं की प्रगति के सम्बन्ध में फीडबैक प्राप्त किया। जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री जी द्वारा विकास कार्याें की माॅनीटरिंग किए जाने तथा कोविड-19 से बचाव व उपचार के सम्बन्ध में उनके प्रयासों की सराहना की।


मुख्यमंत्री जी ने अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय व संवाद बनाकर विकास योजनाओं के सम्बन्ध में कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों द्वारा उठाई गयी समस्याओं का समाधान प्राथमिकता के आधार पर किया जाए। उनके द्वारा दिऐ गये प्रस्तावों पर शीघ्रता से निर्णय देते हुए जनपद व शासन स्तर पर कार्यवाही की जाए। शिलान्यास व लोकार्पण सम्बन्धी कार्यक्रम जनप्रतिनिधिगण के माध्यम से सम्पन्न कराए जाएं। विकास कार्यों की प्रगति का भौतिक सत्यापन करते हुए यूटिलाइजेशन सर्टिफिकेट समय से प्रेषित किया जाए, जिससे धनराशि समय से निर्गत हो सके। उन्होंने कहा कि किसी भी परियोजना के प्रारम्भ होने पर मानक के अनुरूप धनराशि अवमुक्त होनी चाहिए, जिससे परियोजना पर कार्य तत्काल प्रारम्भ हो सके।


मुख्यमंत्री जी ने परियोजनाओं और विकास कार्यों को समयबद्ध व गुणवत्तापूर्ण ढंग से मानकों के अनुसार पूर्ण किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निर्धारित अवधि में कार्य के पूर्ण होने से लागत में कमी आती है और जनता को विकास योजनाओं का समय से लाभ मिलता है। उन्होंने कहा कि कार्यदायी संस्थाओं के कार्य समयबद्ध व मानकों के अनुरूप हों। कार्यदायी संस्थाओं द्वारा किए गए कार्यों की समय-समय पर समीक्षा की जाए। इससे कार्यों में गति आएगी, गुणवत्ता रहेगी और कार्य समयबद्ध ढंग से पूरे होंगे। उन्होंने कहा कि जनपद स्तर पर प्रत्येक विकास परियोजना के लिए नोडल अधिकारी तैनात हो। इससे भी परियोजनाओं की गति में तेजी आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *