हमारे खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने वालों को खुद पर विश्वास नहींः राजनाथ सिंह

अविश्वास प्रस्ताव पर जारी बहस में हिस्सा लेते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का नाम लेते हुए कहा कि उन्होंने किसी समय में कहा था कि भाजपा की स्थिति हम दो हमारे दो वाली है, लेकिन कालचक्र के बदलने से हमारी पार्टी पूर्ण बहुमत में है और हमारे सामने विपक्ष में बैठा कोई भी दल ऐसा नहीं है जो अकेले अपने दम पर हमारे खिलाफ खड़ा हो हमारी सरकार को गिरा दे। यह समय का परिवर्तन है, इसलिए किसी को भी घमंड नहीं करना चाहिए।

लोकतंत्र में विपक्ष का अपना महत्व हो

राजनाथ ने कहा कि आज हमारी पार्टी की ऐसी स्थिति है कि हम पूरे देश में फैल चुके हैं, नार्थ-ईस्ट में भी हमारी सरकार बनी, जहां वर्षों से कम्युनिस्ट पार्टी का वर्चस्व था। ऐसा लगता है कि विपक्ष के हमारे मित्र जनता के इस विश्वास प्रस्ताव को पढ़ नहीं पा रही है। हमारा यह मानना है कि लोकतंत्र में विपक्ष का अपना महत्व है और उसका सम्मान होना चाहिए। मेरा मानना है कि अनावश्यक लाये गये अविश्वास प्रस्ताव का कोई महत्व नहीं है। जिस नेता पर पूरे देश का विश्वास है उसके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का क्या औचित्य है? जो पार्टियां मिलकर हमारी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लायी है, उनका आपस में विश्वास नहीं है।

भारत एक फास्टेस्ट इमरजिंग एकोनॉमी

आज जो विपक्ष एकजुट दिख रहा है नेता चुनने के वक्त वह बिखर जायेगा। राजनाथ सिंह ने कहा कि आज विश्व यह मान रहा है, कई रेटिंग एजेंसियां भी कह रही हैं भारत एक फास्टेस्ट इमरजिंग एकोनॉमी है। राजनाथ सिंह के भाषण के दौरान जब हंगामा बढ़ा, तो कार्यवाही स्थगित कर दी गयी।